ये शाम अपने में मदमस्त है The Evening

ये शाम अपने में मदमस्त है, न भुत न भविष्य है|
ये शाम अपने में मदमस्त है|
इस शाम की हावो में हवा में बहती मेरी रूह है|
मेरी साँस खोती मेरी अंदर, ये वो शाम जब मेरा मन स्थिर है|
आँखों में नमी, चेहरे पे झील सा शांत एहसास है|
आज की शाम मेरी जाम है|
ये शाम अपने में मदमस्त है, न भुत न भविष्य है|

अमित

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s